EntertainmentLatest

भोपाल से मुंबई तक प्रतिष्ठा का संघर्षों का सफर

प्रतिष्ठा की कहानी प्रतिष्ठा की जुबानी

Todays hunt । आज हम बात करेंगे मुंबई में भोपाल का नाम रोशन कर रही एक ऐसी बेटी की जो बचपन से ही एक बड़े सपने के साथ जीते आ रही है, जी हाँ हम बात कर रहे है भोपाल की बेटी प्रतिष्ठा श्रीवास्तव की, जो आज एक सफल एक्ट्रेस है, डांसर है, आर्टिस्ट है।
हमारे संवाददाता की खास रिपोर्ट प्रतिष्ठा की कहानी प्रतिष्ठा की जुबानी में –

संवाददाता – आपका बचपन कैसा रहा है, क्या आपने बचपन में कभी सोचा था कि बड़े होकर एक्टिंग और डांसिंग क्षेत्र में जाना है?
प्रतिष्ठा – बचपन में तो नहीं सोचा था लेकिन बचपन में एक चीज जरूर मेरे साथ होती थी, मैं जब भी कोई टीवी शो या फिल्म देखती थी तो मैं उन्ही की तरह एक्टिंग और डांस करती थी, मेरे घर में भी मुझे सब बचपन से ही एक्ट्रेस बुलाते थे और सबको पता था कि यह बहुत अच्छे से एक्टिंग करती हैं।

संवाददाता – बचपन में क्या कभी आपने कोई प्ले या डांस किया है?
प्रतिष्ठा – बचपन में मुझे डांस का बहुत शौक था, इस वजह से मैं स्कूल और हर जगह पर डांस का परफॉर्मेंस करती थी और इसी के चलते दूरदर्शन पर भी मुझे मौका मिला डांस का प्रदर्शन करने का, साथ ही मैंने डांस और एक्टिंग के जरिए कई अवार्ड भी जीते!

संवाददाता – आपका मुंबई का सफर कैसे शुरू हुआ हम उस बारे में जानना चाहेंगे?
प्रतिष्ठा – स्कूल समाप्त होने के बाद मैं मुंबई डांस सीखने के लिए आई, मैंने किंग्स यूनाइटेड इंडिया ग्रुप को ज्वाइन किया और उनके साथ कई म्यूजिक एल्बम भी शूट किए। लेकिन पढ़ाई के बिना कुछ संभव होता नहीं है और पढ़ाई बहुत अनिवार्य होती है, इसलिए मैं मुंबई छोड़कर वापस अपनी पढ़ाई करने के लिए भोपाल आ गई लेकिन भोपाल आने के बाद भी मैंने अपने काम को जारी रखा!

संवाददाता – भोपाल आने के बाद क्या बदलाव हुए आपके करियर में?
प्रतिष्ठा – भोपाल आने के बाद भी मैंने अपने शौक को नहीं छोड़ा, मैंने यहां पर भी एक्टिंग और डांसिंग का काम जारी रखा और साथ ही मैंने अपनी पहली शॉर्ट फिल्म द हेलमेट की थी और उसी के बाद मैंने मेरे जीवन की पहली रीजनल फीचर फिल्म अंधविश्वास को किया, जिसमें मुझे बहुत ही प्रोत्साहन मिला और परिवार में भी मुझे काफी सराहा गया मेरे काम को नई पहचान मिली!

संवाददाता – अच्छा तो भोपाल के बाद वापस आप मुंबई गए लेकिन क्या समस्याएं आई आपको दोबारा मुंबई की ओर रुख करने के लिए?
प्रतिष्ठा – सर समस्याएं तो जीवन का हिस्सा है और यह मेरे जीवन में भी रही है, हर लड़की के माता-पिता चाहते हैं कि वह अच्छे से पढ़ाई करें अच्छे से उनके साथ रहे और एक अच्छी सी जॉब देख कर अपने काम पर ध्यान दें! लेकिन मेरे शौक और मेरे सपने एक्टिंग डांसिंग था, इसलिए मुझे थोड़ा सा पारिवारिक स्ट्रगल जिसे हम बोल सकते हैं वह करना पड़ा ताकि मैं मुंबई जाकर अपने आगे के सपने पूरे कर सकूं, इसलिए थोड़ा स्ट्रगल मैं समझती हूं और मानती हूं कि हुआ है।

संवाददाता – तो आखिर आप मुंबई आ ही गए, हम जानना चाहेंगे कि किस प्रकार का स्ट्रगल मुंबई में आपने देखा?
प्रतिष्ठा – जी सर मुझे सच में नहीं पता था कि जीवन में इस तरह के मोड़ भी मुझे देखने को मिलेंगे स्ट्रगल तो बहुत किया है, एक रूम में 3-4 लोग एक साथ हम रहे हैं, आए दिन हाइजीन को लेकर झगड़ा कई बार चोरी आदि होने के कारण बहुत उत्साह कम हुआ था, पर कहते हैं ना की सपनों में अगर जान होती हैं तो ऊंची उड़ान होती है, उसके बाद मैंने टेरेंस लुईस डांस कंपनी को ज्वाइन किया और उनके साथ मैंने कई शोज किए जिनके लिए मुझे पैसे मिलते थे और उसी से मैं अपना गुजारा करती थी, मुझे वहां जाने के लिए भी 10-12 स्टेशन से दूर लोकल पकड़ कर जाना पड़ता था और वापस आना पड़ता था, कई बार ऐसा होता था कि प्रैक्टिस लेट तक होती थी जिस वजह से मुझे ट्रेन भी नहीं मिल पाती और कई बार जल्दी आने के लिए मैं मेरी जो सहेलियां थी उन्हीं से रिक्वेस्ट करके उनके यहां रुक जाया करती थी, इस तरह से मैंने अपने सीखने के स्ट्रगल को जारी रखा।

संवाददाता – आपके करियर का टर्निंग प्वाइंट क्या रहा है?
प्रतिष्ठा – मेरा टर्निंग प्वाइंट एक टीवी सीरियल जो मुझे मिला शुभ विवाह वह रहा था लेकिन उसी समय सबसे बड़ा स्ट्रगल का समय आ चुका था जो कि सिर्फ मेरे लिए नहीं पूरे देश के लिए स्ट्रगल था – कोरोना! कोरोना के कारण सारे शोज कैंसिल हो गए और उसके बाद थोड़ा सा जो कैरियर ऊपर जा रहा था, वह रुक सा गया लेकिन कोविड-19 के दौरान भी मैंने 2 3 गाने शूट किए।

संवाददाता – कोविड-19 के बाद आपकी वापसी और आगे के करियर के बारे में हम जानना चाहेंगे ?
प्रतिष्ठा – जी सर मुझे भी बताते हुए खुशी होगी की लॉकडाउन के बाद जब वापस मुंबई आई और अपना कार्य शुरू किया तब माहौल कुछ अलग हो गया था, मुझे कई बार फेक ऑडिशन के बहाने मिलने बुलाया गया, कास्टिंग काउच की कोशिश की गई लेकिन मैंने कभी खुद को काम के लिए कंप्रोमाइज नहीं करने दिया। आज मैं जो हूं वह अपने साफ-सुथरे नेचर और अपने एक्टिंग के दम पर हूं और ऐसा नहीं है कि बुरे लोग ही मिले, कुछ अच्छे लोगों से भी मिलना हुआ और उन्हीं के साथ मैंने अपने जीवन की पहली वेब सीरीज बॉबी को साइन किया और वह वेब सीरीज की जिससे मुझे बहुत पहचान मिली और मेरे काम को भी लोगों के द्वारा परिवार के द्वारा बहुत ही प्रोत्साहन मिला, उसके बाद मैंने दो और वेब सीरीज अभी की है और एक हिंदी फीचर फिल्म भी में कर रही हूं जो कि बहुत जल्दी आपके सामने आ जाएगी।

संवाददाता – प्रतिष्ठा जी आपका जो करियर और आपकी जो कहानी है वह वास्तव में एक मोटिवेशनल स्टोरी की तरह है, आप हमारे पाठकों को कुछ संदेश अगर देना चाहे तो क्या देंगे?

प्रतिष्ठा – मैं सभी से कहना चाहूंगी कि आप अपने स्किल और अपने सपने दोनों को ऊपर की ओर लेकर जाएं, क्योंकि जितने बड़े सपने होंगे जितनी अच्छी आप की स्किल होगी उतनी ऊंचाई आप हासिल करेंगे उतना नाम कमाएंगे, मैं एक और निवेदन करूंगी कि अगर आप में टैलेंट है तो प्लीज कभी भी कंप्रोमाइज करके आगे ना बढ़े। एक दिन आपको मौका जरूर मिलेगा और साथ ही में अपनी बहन बेटियों को कहना चाहूंगी कि आप आगे बढ़ते रहें, रुकना नही है।

Join Pratishtha Shrivastava on Instagram –

https://instagram.com/pratishthashrivastava?igshid=YmMyMTA2M2Y=

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button